कौशल विकास प्रोजेक्ट – परिचय व उद्देश्य

कौशल विकास प्रोजेक्ट – परिचय व उद्देश्य

पूजक – अर्चक कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रम

परियोजना परिचय :-

सनातन धर्म में पूजा – पाठ – यग- हवन एवं वोडष संस्कारो का बहुत ही महत्व है| उपर्युक्त सभी कार्यक्रम पुरोहित द्वारा ही संपन्न कराये जाते हैं | यदि पुरोहित शास्त्रानुसार एवं विधि- विधान से पोरोहित्य कर्म करता है | तो निश्चय ही इसका सार्थक परिणाम प्राप्त होता है | प्राय: यह देखने में आता है कि पौरोहित्य कर्म करने वाले पुरोहित को उचित प्रशिक्षण नहीं मिलने के कारण वह शास्त्रोयुक्त विधि से पौरोहित्य कर्म नहीं कराते हैं | इसी को द्रष्टिगत रखते हुए अकादमी पूजक – अर्चक प्रशिक्षण कार्यक्रम राजस्थान कौशल एवं आजीविका विकास निगम जयपुर के सहयोग से आयोजित कर रहा है|

उदेश्श्य :-

  • पूजक – अर्चक प्रशिक्षण कार्यक्रम के द्वारा योग्य एवं अधिकृत पुरोहित तैयार करना
  • प्रशिक्षणार्थियों को वैदिक संस्कृति का ज्ञान|
  • प्रशिक्षणार्थियों को पूजा – पाठ – यज्ञ- हवन एवं संस्कारों का सैद्धांतिक एवं प्रायोगिक ज्ञान के द्वारा कुशल पुरोहित तैयार करना|
  • पूजा – पाठ – यज्ञ- हवन एवं पौरोहित्य कर्म में प्रयुक्त होने वाली सामग्री के निर्माण की विधि में प्रशिक्षणार्थियों को कुशल बनाना|
  • कर्मकांड व ज्योतिष शतर में रोजगार उपलब्ध कराना|

प्रशिक्षण कार्यक्रम का कार्य क्षेत्र :-

राजस्थान संस्कृत अकादमी द्वारा सम्पूर्ण प्रदेश में प्रशिक्षण संचालित किये जाने की योजना है| वर्तमान में प्रदेश का एकमात्र प्रशिषण केन्द्र ऋग्वेदी ब्राह्मण गायत्री मंदिर , गोगागेट के बाहर संचालित हो रहा है|

Select the fields to be shown. Others will be hidden. Drag and drop to rearrange the order.
  • Image
  • SKU
  • Rating
  • Price
  • Stock
  • Availability
  • Add to cart
  • Description
  • Content
  • Weight
  • Dimensions
  • Additional information
  • Attributes
  • Custom attributes
  • Custom fields
Compare
Wishlist 0
Open wishlist page Continue shopping
Alert: You are not allowed to copy content or view source !!