Blog

भारतरत्न डॉ. पी.वी काणे : जिन्हें विद्वानों का संसार कभी भुला नहीं सकता !

ब्लॉग

भारतरत्न डॉ. पी.वी काणे : जिन्हें विद्वानों का संसार कभी भुला नहीं सकता !

आजादी का अमृत महोत्सव

भारतरत्न डॉ. पी.वी काणे : जिन्हें विद्वानों का संसार कभी भुला नहीं सकता!

भारतीय राजनीति के महासागर में चंद हंस ऐसे हैं जो डॉ. पीवी काणे का महत्त्व समझते हैं। यह समझना चाहिए कि भारतीय चिंतन, धर्म और अध्यात्म पर काम करने वालों में काणे का नाम अग्रपंक्ति में है। उन्होंने अपनी सारस्वत साधना से इतिहास खड़ा किया। वे न केवल संस्कृत एवं प्राच्य विद्याओं के ही विशारद थे बल्कि विधिज्ञ भी थे। डॉ. काणे संस्कृत के आचार्य, मुंबई विश्वविद्यालय के कुलपति तथा सन 1953 से 1959 तक राज्यसभा के मनोनीत सदस्य रहे। उन्होंने पेरिस, इस्तांबूल तथा कैंब्रिज के प्राच्यविज्ञ सम्मेलनों में भारत का प्रतिनिधित्व किया। साहित्य अकादमी ने 1956 ईस्वी में उन्हें ‘धर्मशास्त्र का इतिहास’ के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार दिया। पंडित जवाहरलाल नेहरू की सरकार ने 1963 ईस्वी में काणे को भारत रत्न के सर्वोच्च सम्मान से अलंकृत किया।

महाराष्ट्र के रत्नागिरि में 7 मई, 1880 को जन्मे काणे ने भी नहीं सोचा था कि वे भारतीय धर्मशास्त्र का इतिहास लिख डालेंगे। वे तो धर्मशास्त्र के एक ग्रंथ ‘व्यवहार-मयूख’ की रचना में लगे थे और उस ग्रंथ को रचने के उपरांत उनके मन में आया कि पुस्तक का एक परिचय लिखा जाए, ताकि पाठकों को धर्मशास्त्र के इतिहास की संक्षिप्त जानकारी हो सके। धर्मशास्त्र की संक्षिप्त जानकारी देने के प्रयास में काणे एक ग्रंथ से दूसरे ग्रंथ, एक खोज से दूसरी खोज, एक सूचना से दूसरी सूचना तक बढ़ते चले गए और पृष्ठ दर पृष्ठ लिखते गए। एक नया विशाल ग्रंथ तैयार हुआ और भारतीय ज्ञान परंपरा के इतिहास में एक बड़ा काम हो गया।

‘धर्मशास्त्र का इतिहास’ का पहला खंड 1930 में प्रकाशित हुआ। केवल भारत ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया भर में पुरातन ज्ञान की नई हलचल मच गई। ‘धर्मशास्त्र का इतिहास’ के प्राक्क्थन में काणे ने स्वयं लिखा है, ‘व्यवहार-मयूख के संस्करण के लिए सामग्री संकलित करते समय मेरे ध्यान में आया कि जिस प्रकार मैंने ‘साहित्यदर्पण’ के संस्करण में प्राक्कथन के रूप में अलंकार साहित्य का इतिहास, नामक एक प्रकरण लिखा है, उसी पद्धति पर व्यवहारमयूख में भी एक प्रकरण संलग्न कर दूं, जो निश्चय ही धर्मशास्त्र के छात्रों के लिए पूर्ण लाभप्रद होगा। इस दृष्टि से जैसे-जैसे धर्मशास्त्र का अध्ययन करता गया। मुझे ऐसा दीख पड़ा कि सामग्री अत्यंत विस्तृत एवं विशिष्ट है, उसे एक संक्षिप्त परिचय में आबद्ध करने से उसका उचित निरूपण न हो सकेगा। साथ ही उसकी प्रचुरता के समुचित परिज्ञान, सामाजिक मान्यताओं के अध्ययन, तुलनात्मक विधि शास्त्र तथा अन्य विविध शास्त्रों के लिए उसकी जो महत्ता है, उसका भी अपेक्षित प्रतिपादन न हो सकेगा। निदान, मैंने यह निश्चय किया कि स्वतंत्र रूप से धर्मशास्त्र का एक इतिहास ही लिपिबद्ध करूं। आज धर्मशास्त्र का इतिहास एक ऐसी अनमोल थाती है, जिसमें वैदिक काल से आधुनिक काल तक के न केवल धर्म ग्रंथ बल्कि तमाम विधि-विधान, सामाजिक रीति रिवाज का भी पर्याप्त विवरण है।’

काणे के धर्मशास्त्र के इतिहास के एक के बाद एक पांच खंड प्रकाशित हुए। 1962 में पांचवां खंड आया। यह काम इतना अद्भुत, उपयोगी और अतुलनीय है कि भारत सरकार इसकी अनदेखी नहीं कर सकी और 1963 में उन्हें देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न दिया गया। बेहिचक कहना चाहिए कि काणे आज तक अकेले ऐसे ‘भारत रत्न’ हैं, जो शास्त्र चिंतन व संस्कृत को समर्पित रहे हैं।

आज जब संस्कृत भाषा को लगातार उपेक्षा का शिकार होना पड़ रहा है, तब काणे को याद रखना बहुत जरूरी है। 1930 में जब वे पचास साल के थे, तब धर्मशास्त्र के इतिहास का पहला खंड आया और जब अंतिम खंड आया, तब 82 वर्ष के। उन्होंने पूरा जीवन धर्मशास्त्र के अध्ययन में समर्पित कर दिया। इस ऐतिहासिक ग्रंथ के अलावा भी उनके अनेक ग्रंथ प्रकाशित हुए। उत्तररामचरित से लेकर कादंबरी, हर्षचरित, हिंदुओं के रीति-रिवाज तथा आधुनिक विधि और संस्कृत काव्यशास्त्र का इतिहास उनकी कृतियां हैं। उनकी पुस्तकों के बिना आज कोई भी पुस्तकालय पूरा नहीं हो सकता। उनके द्वारा रचा गया ज्ञान कोश अंग्रेजी, संस्कृत और मराठी भाषा में उपलब्ध है।

काणे ने 18 अप्रैल 1972 को शरीर त्याग दिया, लेकिन जो अनमोल ज्ञान वे छोड़ गए हैं, उसका महत्व अपरिमित है। विद्वानों की दुनिया उन्हें भुला नहीं सकती। जब भी भारतीय संस्कृति को लेकर कोई विवाद उठता है तो काणे की रचनाओं से निकालकर उद्धरण दिए जाते हैं। उनकी कल्पना तार्किक थी। उन्होंने लिखा, ‘भारतीय संविधान भारतीय संस्कृति के अनुरूप नहीं है, क्योंकि लोगों को अधिकार तो दिए गए हैं, लेकिन जिम्मेदारी नहीं दी गई।’ आज कौन उनकी इस बात से इनकार करेगा? भारत में लोगों को हरसंभव अधिकार मिले हुए हैं, लेकिन लोग जिम्मेदारी उठाने को तैयार नहीं हैं, जिससे समाज में अनेक चुनौतियां खड़ी हो गई हैं। भारत रत्न डॉ. पांडुरंग वामन काणे की 142वीं जयंती पर उन्हें याद करना तभी सार्थक है, जब हम भारत और उसके भारत तत्त्व के प्रति अपनी जिम्मेदारी को समझें।

—Pngtree—twitter icon_3584901

@Kosalendradas

- शास्त्री कोसलेन्द्रदास

Comments (3)

  1. Saroj Kaushal

    बहुत सूचनापरक ब्लॉग, भारतरत्न पी वी काणे अपने ग्रन्थों के माध्यम से आज भी विद्यमान हैं। वाडमय रूपी दर्पण को प्राप्त कर उनका यशोबिम्ब अद्यावधि प्रतिबिम्बित हो रहा है।

  2. sudha

    भारत रत्न काणे जी को शत शत नमन , ये पुस्तक online free downloading के लिये उपलब्ध है क्या ?

  3. Toynidhi Vaishnava

    Sadhuwadh

Leave your thought here

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Select the fields to be shown. Others will be hidden. Drag and drop to rearrange the order.
  • Image
  • SKU
  • Rating
  • Price
  • Stock
  • Availability
  • Add to cart
  • Description
  • Content
  • Weight
  • Dimensions
  • Additional information
  • Attributes
  • Custom attributes
  • Custom fields
Click outside to hide the compare bar
Compare
Wishlist 0
Open wishlist page Continue shopping
Alert: You are not allowed to copy content or view source !!