स्वरमंगला

स्वरमंगला

स्वरमंगला जनवरी – मार्च 2021
स्वरमंगला - अक्टूबर – दिसम्बर 2020
स्वरमंगला जुलाई – सितम्बर 2020
स्वरमंगला - अप्रैल – जून 2020
स्वरमंगला – अक्टूबर 2019 मार्च 2020
अक्टूबर 2018- सितम्बर 2019 (वार्षिकांक)
अक्टूबर 2017- सितम्बर 2018-अंक 1-4 (वार्षिकांक)
अक्टूबर – दिसम्बर-2013-अंक-4 (विश्वपटले संस्कृतम्)

स्वरमंगला ‘राजस्थान संस्कृत अकादमी की त्रैमासिकी संस्कृत -शोध पत्रिका है । यह पत्रिका सन् 1975 से सतत प्रकाशित की जा रही है ।वर्तमान में इस पत्रिका के संपादक आचार्य (डॉ. )श्रीकृष्ण शर्मा,पूर्व संस्कृत विभागाध्यक्ष ,जय नारायण व्यास विश्वविद्यालय, जोधपुर हैं । प्रधान संपादक और प्रबंध संपादक का कार्य क्रमशः पदेन(Ipso-facto) अध्यक्ष, राजस्थान संस्कृत अकादमी एवं पदेन निदेशक ,राजस्थान संस्कृत अकादमी देखते हैं । यह पत्रिका पंजीकृत है. जिसका आर एम नंबर 260 65/ 72 है तथा आई एस एस एन नंबर 2499 -9296 है ।

उक्त पत्रिका में संपूर्ण भारत वर्ष से प्रख्यात संस्कृत विद्वानों , विषयविशेषज्ञो एवं शोध छात्रों के शोधपत्र/अभिनव रचनायें आमंत्रित की जाती हैं । आलेख डाक के पते, जे-15 अकादमी संकुल,झालाना सांस्थानिक क्षेत्र,झालाना डूंगरी, जयपुर (0141-2709120) अथवा rajadthansanskritacademy@gmail.com पर प्राप्त किये जाते हैं । स्वरमंगला में लेख प्रकाशित होने पर विद्वान् लेखकों को सम्मान स्वरूप प्रतीकात्मक मानदेय भी अकादमी द्वारा प्रदान किया जाता है।प्रकाशित आलेख संस्कृत के पाठकों शोधार्थियों एवं विद्यार्थियों को एक सार्थक दिशा- प्रदान करने का कार्य करते हैं । इस पत्रिका का उद्देश्य संस्कृत का संरक्षण , संवर्धन ,प्रोत्साहन एवं प्रोन्नति है । इसके साथ ही शोध कार्य हेतु सतत संलग्न लोगों को प्रोत्साहित कर उन्हें यथा अपेक्षित संस्कृतविषयक प्रामाणिक एवं विश्वसनीय सामग्री उपलब्ध कराना है , संस्कृत लेखकों के सभी आयुवर्ग के लेखकों को लेखन-प्रकाशन हेतु प्रतिष्ठित मंच उपलब्ध कराना है ।कालखंड की महत्त्वपूर्ण घटनाओं ,विषयों -विचारों और संस्कृत आंदोलन को साक्षीभाव से प्रस्तुत करना भी इसका महत्त्वपूर्ण उद्देश्य है। उत्कृष्ट संकलन , पठनीय सामग्री ,समयबद्ध उपलब्धता और पारदर्शिता के साथ प्रकाशन इसकी महत्त्वपूर्ण विशेषता है ।

यह पत्रिका विशेष महत्त्वपूर्ण अवसरों पर विशेषांक के रूप में भी प्रकाशित की जाती रही है । वर्ष 2020 से यह पत्रिका प्रकाशन के साथ राजस्थान संस्कृत अकादमी की वेबसाइट www.rajadthansanskritacademy.com  पर भी संप्रदर्शित की जा रही है ताकि इसका विस्तार हो सके और व्यापक स्तर पर शोधार्थी- विद्यार्थी और संस्कृत जन लाभान्वित हों सकें ।यह शोध- विद्यार्थियों के लिए एक प्रामाणिक- आधिकारिक अभिलेख है । इसकी प्रत्येक प्रति का मूल्य ₹25, वार्षिक मूल्य -₹100 और आजीवन मूल्य ₹1000 निर्धारित है ।पाठकों के सुझाव,प्रतिक्रिया का सदैव स्वागत है।

डॉ. समित शर्मा IAS
श्री संजय झाला
आचार्य (डॉ. )श्रीकृष्ण शर्मा
विद्वत समीक्षा समिति
Select the fields to be shown. Others will be hidden. Drag and drop to rearrange the order.
  • Image
  • SKU
  • Rating
  • Price
  • Stock
  • Availability
  • Add to cart
  • Description
  • Content
  • Weight
  • Dimensions
  • Additional information
  • Attributes
  • Custom attributes
  • Custom fields
Compare
Wishlist 0
Open wishlist page Continue shopping
Alert: You are not allowed to copy content or view source !!